सितंबर तिमाही में eight कंपनियां देश के शेयर बाजार में लिस्ट हुईं, उन्होंने आईपीओ के जरिये 6,200 करोड़ रुपए से ज्यादा की रकम जुटाई


  • Hindi News
  • Business
  • eight Itemizing And Over Rs 6200 Crore Fund Elevating By means of On The Inventory Market In Q3

नई दिल्लीएक घंटा पहले

इस ाल ितंबर तिाही ें 60.2 करोड़ डॉलर के इश्यू साइज के साथ सबसे बड़ा ाइंडस्पेस बिजनेस पार्क रीट का रहा

  • BSE और NSE के मेन मार्केट में four IPO आए, सितंबर 2019 तिमाही में इस सेगमेंट में three IPO आए थे, Q2 2020 में कोई IPO नहीं आया था
  • SME मार्केट सेगमेंट में पिछली तिमाही में four आईपीओ आए, जबकि एक साल पहले की समान तिमाही में इस सेगमेंट में 9 आईपीओ आए थे

सितंबर 2020 तिमाही में देश की eight कंपनियां में लिस्ट हुईं। इन कंपनियों ने इस दौरान प्रारंभिक पब्लिक ऑफर (IPO) के जरिये बाजार से 85 करोड़ डॉलर (6,200 करोड़ रुपए से ज्यादा) जुटाए। ईवाई की एक ताजा रिपोर्ट के मुताबिक दूसरी छमाही (अक्टूबर 2020-मार्च 2021) कंपनियां आईपीओ के जरिये इससे काफी ज्यादा जुटा सकती हैं।

इस साल सितंबर तिमाही में 60.2 करोड़ डॉलर के इश्यू साइज के साथ सबसे बड़ा आईपीओ माइंडस्पेस बिजनेस पार्क रीट का रहा। ईवाई ने रविवार को जारी रिपोर्ट में कहा कि इस दौरान बीएसई और एनएसई के मेन मार्केट में four आईपीओ आए, जबकि पिछले साल की तीसरी तिमाही में three आईपीओ आए थे और इस साल की दूसरी तिमाही (अप्रैल-जून) में कोई आईपीओ नहीं आया। एसएमई मार्केट सेगमेंट में पिछली तिमाही में four आईपीओ आए, जबकि एक साल पहले की समान तिमाही में इस सेगमेंट में 9 आईपीओ आए थे।

पिछले साल सितंबर तिमाही में 12 आईपीओ आए थे

ईवाई इंडिया आईपीओ ट्रेंड्स रिपोर्ट Q3 2020 के मुताबिक ये आठ आईपीओ लाने वाली कंपनिया रियल एस्टेट, हॉस्पिटैलिटी, कंस्ट्रक्शन, टेक्नोलॉजी और टेलीकम्युनिकेशंस सेक्टर्स के हैं। पिछले साल सितंबर तिमाही में शेयर बाजार में 12 आईपीओ आए थे। लेकिन इन 12 आईपीओ के जरिये कंपनियों ने सिर्फ 65.198 करोड़ डॉलर ही जुटाए थे।

सितंबर तिमाही में ग्लोबल लेवल पर 20 साल की सबसे बड़ी फंड रेजिंग

पूरी दुनिया के लेवल पर देखा जाए, तो सितंबर तिमाही आईपीओ के लिहाज से सुस्त रहती है, लेकिन इस साल सितंबर तिमाही काफी एक्टिव रही, क्योंकि कंपनियों के पास पैसे नहीं थे। ग्लोबल लेवल पर आईपीओ के जरिये सितंबर तिमाही में 20 साल की सबसे ज्यादा फंड रेजिंग हुई। वहीं आईपीओ की संख्या के मामले में सितंबर तिमाही 20 साल में दूसरी सबसे बड़ी तिमाही रही।

जनवरी-सितंबर में आईपीओ की संख्या के मामले में भारत 9वें नंबर पर

वैश्विक स्तर पर इस साल जनवरी से सितंबर तक आईपीओ की संख्या पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 14 फीसदी बढ़कर 872 रही। इस दौरान आईपीओ प्रोसीड्स 43 फीसदी बढ़ोतरी के साथ 165.three अरब डॉलर रहा। भारत इस दौरान आईपीओ की संख्या के मामले में दुनिया में 9वें नंबर पर रहा।



Source link

This site is using SEO Baclinks plugin created by Locco.Ro

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *