चीनी हिस्से में आज होगी कोर कमांडरों की बैठक, पहली बार ये अधिकारी हो सकते हैं शामिल


नई दिल्ली: (India) और (China) ी सेनाओं े बीच ोर कमांडरों ी छठे दौर ी वार्ता सोमवार ोने वाली ै. इसमें ुख् रूप से पूर्वी लद्दाख ें दोनों देशों के सौनिकों को पीछे हटाना और तनाव घटाने पर बनी पांच सूत्री सहमति के क्रियान्वयन पर ुख्य रूप से ध्यान केंद्रित किया जाएगा. 

सुबह 9 बजे शुरू होगी वार्ता
सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) से चीन की ओर में सुबह नौ बजे यह वार्ता शुरू होने वाली है. उन्होंने बताया कि भारतीय प्रतिनिधिमंडल में ी बार विदेश मंत्रालय से एक संयुक्त सचिव स्तर के अधिकारी के इसमें हिस्सा होने की उम्मीद है. जानकारी के मुताबिक, भारत इस वार्ता में कुछ ठोस नतीजे निकलने की उम्मीद रहा है.

ये भी पढ़ें:- रेप के आरोपी ने थाने में ही फांसी लगाकर की आत्महत्या, पुलिस की नहीं टूटी नींद

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) से अलग 10 सितं को मास्को में विदेश मंत्री एस जयशंकर और उनके चीनी समकक्ष वांग यी के बीच हुई एक बैठक में दोनों पक्ष सीमा विवाद हल करने पर एक सहमति पर पहुंचे थे. इन उपायों में सैनिकों को शीघ्रता से हटाना, तनाव बढ़ाने वाली कार्रवाई से बचना, सीमा प्रबंधन पर सभी समझौतों एवं प्रोटोकॉल का पालन करना और एलएसी पर शांति बहाल करने के लिए कदम उठाना शामिल हैं.

इनकी अध्यक्षता में होगी वार्ता
वार्ता में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह करने वाले हैं जो लेह स्थित भारतीय थल सेना की 14 वीं कोर के कमांडर हैं. जबकि चीनी पक्ष का नेतृत्व मेजर जनरल लियू लिन के करने की संभावना है, जो दक्षिण शिंजियांग सैन्य क्षेत्र के कमांडर हैं. 

एक सूत्र ने कहा कि वार्ता में भारत टकराव वाले स्थानों से चीनी सैनिकों को पूर्ण रूप से हटाये जाने पर जोर देगा. सूत्रों ने बताया कि दोनों पक्ष एक और दौर की वार्ता करने जा रहे हैं, वहीं भारत ने पैंगोंग झील के करीब टकराव वाले स्थानों के आसपास 20 से अधिक पर्वत चोटियों पर अपना वर्चस्व मजबूत कर लिया है.

LIVE TV





Source link

This site is using SEO Baclinks plugin created by Locco.Ro

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *