श्रद्धांजलि: भाई रॉनी और डॉनी ने चिपके हुए बिताई सबसे लंबी जिंदगी, जानिए उनकी खूबियां


जुड़वे भाई रोनी गेलन और डॉनी गेलन ने चिपके हुए 68 साल की जिंदगी जी.

अमेरिका में एक दूसरे से चिपके हुए पैदा हुए जुड़वा भाइयों (conjoined twins) रोनी गेलन और डॉनी गेलन (Ronnie and Donnie Gaylon) का 68 वर्ष की आयु में अपने गृहनगर ओहायो के देतें में निधन (Died In Ohio) हो गया.

ओहायो. अमेरिका में एक दूसरे से चिपके हुए पैदा हुए जुड़वा भाइयों (conjoined twins) रोनी गेलन और डॉनी गेलन (Ronnie and Donnie Gaylon) का 68 वर्ष की आयु में अपने गृहनगर ओहायो के देतें में निधन (Died In Ohio) हो गया. ये दोनों दुनिया के सबसे अधिक समय तक जीवित रहने वाले जुड़वां भाई थे जो चिपके हुए पैदा हुए थे. ये दोनों three साल की उम्र से कार्निवल और सर्कस में काम कर रहे थे.

28 अक्टूबर 1951 में पैदा हुए थे दोनों भाई

इनका जन्म 28 अक्टूबर 1951 को एलीन और वेस्ले गेलन के घर पैदा हुए थे. ये दोनों स्वस्थ पैदा हुए थे. इन्होंने अपने शुरूआती दो वर्ष अस्पताल में बिताये क्योंकि डॉक्टरों ने उन्हें सुरक्षित रूप से अलग करने के लिए बहुत संघर्ष किया लेकिन जब उनके माता पिता को यह बताया गया कि इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि दोनों लड़के सर्जरी से बच जाएंगे तो उनके माता पिता ने अपने बेटों का ऑपरेशन करवाने से इनकार कर दिया.

दोनों का पाचन तंत्र एक ही थादोनों भाई 68 वर्षों तक एक दूसरे के आमने सामने ही रहे. वे अलग अलग दिल, पेट, हाथ और पैर के साथ पैदा हुए थे लेकिन उनके पास निचले पाचन अंगों का एक ही सेट था. जब ये तीन साल के हुए तो उनके पिता ने नौ बच्चों के बढ़ते परिवार को सहारा देने के लिए उन्हें कार्निवल सर्किट पर ले जाने का फैसला किया और वहां उन्होंने दोनों बच्चों को वार्ड हॉल नामक मशहूर कार्निवाल संयोजक के सुपुर्द कर दिया जिसने उन्हें कार्निवाल में काम करवाते हुए पूरा अमरीका और कनाडा में घुमाया.

बाप और सौतेली मां ने पाला और पोसा

वार्ड हॉल ने अपनी जीवनी में लिखा कि दोनों के पैदा होने पर उनकी माँ ने उन्हें अस्वीकार कर दिया जिसे बाद में उनके पिता और उनकी सौतेली माँ ने पाला. उनके पिता ने अस्पातल के बिलों से परेशान होकर ही उन्हें कार्निवाल के काम में डाला जहाँ दोनों बेहतरीन काम करते हुए 1991 में रिटायर हो गए. दोनों भाई बहुत अच्छे दोस्त थे और दोनों को मछली पकड़ने, डेरा डालने, बेसबॉल कार्ड इकट्ठा करने का शौक था. इस तरह के जुड़े लोगों के जीवित रहने की दर 5 से 25 प्रतिशत ही रहती है लेकिन ये दोनों भरपूर जिए. 2009 में एक भाई रॉनी को वायरल संक्रमण के कारण फेफड़ों में खून के थक्के बन गए थे. आगे चलकर उन्हें गठिया हो गया था जिससे वे चलने फिरने में असमर्थ हो गए थे.

ये भी पढ़ें: COVID-19: पीएम इमरान ने विश्व समुदाय से किया अनुरोध, कहा-अपनी रणनीति साझा करें

ब्राजील के राष्ट्रपति बोलसोनारो ने कहा- मैं हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन खाकर ठीक हो रहा हूं

वर्ष 2014 में डॉनी और रॉनी ने अपनी लंबी उम्र का जश्न मनाया. जब वे गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में चिपके हुए पैदा बच्चों के सबसे वृद्ध जोड़े बन गए इनसे पहले यह रिकॉर्ड चांग और इंग बंकर चीनी भाइयों के नाम था जो 1811 में थाईलैंड में पैदा हुए थे और 62 वर्ष की आयु तक जीवित रहे थे.

! operate(f, b, e, v, n, t, s) { if (f.fbq) return; n = f.fbq = operate() { n.callMethod ? n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments) }; if (!f._fbq) f._fbq = n; n.push = n; n.loaded = !0; n.model = ‘2.0’; n.queue = []; t = b.createElement(e); t.async = !0; t.src = v; s = b.getElementsByTagName(e)[0]; s.parentNode.insertBefore(t, s) }(window, doc, ‘script’, ‘https://join.fb.web/en_US/fbevents.js’); fbq(‘init’, ‘482038382136514’); fbq(‘monitor’, ‘PageView’);



Supply hyperlink

This site is using SEO Baclinks plugin created by Locco.Ro

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *